पेपर बैग बनाने का व्यापार कैसे शुरू करें? | निवेश, प्रॉफिट, मशीने व विधि | Paper Bag banane ka business kaise shuru kare

|| पेपर बैग बनाने का व्यापार कैसे शुरू करें? | Paper Bag banane ka business kaise shuru kare | How to make paper bags for business in Hindi | Paper bag ka business kyu karna chahiye | पेपर बैग बनाने के लिए मशीन | पेपर बैग बनाने के बाद क्या करे? | पेपर बैग किससे बनते हैं? ||

Paper Bag Making Business in Hindi : – यदि आप किसी बिजनेस में अच्छा लाभ कमाना चाहते हैं तो उसके लिए आज हम आपको एक ऐसा बिज़नेस सुझाना चाह रहे हैं जो सबसे अनोखा और अलग (Paper bag banane ka business) है। यह बिज़नेस है पेपर बैग बनाने का बिज़नेस। चूँकि आज के समय में सभी अलग अलग तरह के बिज़नेस में अपनी किस्मत आजमा रहे हैं और उसमे कोई सफल हो रहा हैं तो बहुत सारे व्यापारी इससे पैसा कैसे कमाता है? असफल। तो हम आपके लिए एक ऐसा बिज़नेस लेकर आये हैं जो भविष्य की दृष्टि से बहुत ही सफल बिज़नेस माना जाएगा।

ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि आगे का जमाना पेपर बैग का ही हैं और हर कोई इसी में ही काम करेगा। अब वह समय गया जब लोग प्लास्टिक के बैग इस्तेमाल किया करते थे। इसकी जगह दूसरे बैग्स ने ले ली हैं जिनमे से पेपर बैग प्रमुख है। तो आज का विषय पेपर बैग बनाने के बिज़नेस के ऊपर ही रहने (Paper bag banane ka business kaise karen) वाला है। यह लेख पढ़कर आपको आईडिया व्यापारी इससे पैसा कैसे कमाता है? हो जाएगा कि किस तरह से आप अपना पेपर बैग बनाने का बिज़नेस शुरू कर सकते हैं।

पेपर बैग बनाने का व्यापार बहुत ही बड़ा व्यापार है। भविष्य में इसी का ही बोलबाला रहने (How to make paper bags for business in Hindi) वाला है। हर कोई इसी की मांग करेगा और आपको भी इसमें बहुत ज्यादा फायदा देखने को मिलेगा। इसलिए यदि आप पेपर बैग के व्यापार में अपनी किस्मत आजमाएंगे तो इसे बहुत ही सही निर्णय कहा जाएगा। तो आइए जाने पेपर बैग बनाने का बिज़नेस कैसे किया जाए।

पेपर बैग बनाने का व्यापार कैसे शुरू करें? | निवेश, प्रॉफिट, मशीने व विधि | Paper Bag banane ka business kaise shuru kare

|| पेपर बैग बनाने का व्यापार कैसे शुरू करें? | Paper Bag banane ka business kaise shuru kare | How to make paper bags for business in Hindi | Paper bag ka business kyu karna chahiye | पेपर बैग बनाने के लिए मशीन | पेपर बैग बनाने के बाद क्या करे? | पेपर बैग किससे बनते हैं? ||

Paper Bag Making Business in Hindi : – यदि व्यापारी इससे पैसा कैसे कमाता है? आप किसी बिजनेस में अच्छा लाभ कमाना चाहते हैं तो उसके लिए आज हम आपको एक ऐसा बिज़नेस सुझाना चाह रहे हैं जो सबसे अनोखा और अलग (Paper bag banane ka business) है। यह बिज़नेस है पेपर बैग बनाने का बिज़नेस। चूँकि आज के समय में सभी अलग अलग तरह के बिज़नेस में अपनी किस्मत आजमा रहे हैं और उसमे कोई सफल हो रहा हैं तो बहुत सारे असफल। तो हम आपके लिए एक ऐसा बिज़नेस लेकर आये हैं जो भविष्य की दृष्टि से बहुत ही सफल बिज़नेस माना जाएगा।

ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि आगे का जमाना पेपर बैग का ही हैं और हर कोई इसी में ही काम करेगा। अब वह समय गया जब लोग प्लास्टिक के बैग इस्तेमाल किया करते थे। इसकी जगह दूसरे बैग्स ने ले ली हैं जिनमे से पेपर बैग प्रमुख है। तो आज का विषय पेपर बैग बनाने के बिज़नेस के ऊपर ही रहने (Paper bag banane ka business kaise karen) वाला है। यह लेख पढ़कर आपको आईडिया हो जाएगा कि किस तरह से आप अपना पेपर बैग बनाने का बिज़नेस शुरू कर सकते हैं।

पेपर बैग बनाने का व्यापार बहुत ही बड़ा व्यापार है। भविष्य में इसी का ही बोलबाला रहने (How to make paper bags for business in Hindi) वाला है। हर कोई इसी की मांग करेगा और आपको भी इसमें बहुत ज्यादा फायदा देखने को मिलेगा। इसलिए यदि आप पेपर बैग के व्यापार में अपनी किस्मत आजमाएंगे तो इसे बहुत ही सही निर्णय कहा जाएगा। तो आइए जाने पेपर बैग बनाने का बिज़नेस कैसे किया जाए।

30 की उम्र में करोड़पति कैसे बनें? जानिए फॉर्मूला

30 की उम्र में करोड़पति

आज हम आपको एक ऐसी युवती की कहानी बताने जा रहे हैं, जिसने निवेश और बचत के कुछ टिप्स अपनाए और 29 साल की उम्र में करोड़पति बन गई और अब रिटायरमेंट प्लान कर रही है। अमेरिका के लॉस एंजिल्स की मूल निवासी केटी टी ने अच्छी वित्तीय योजना और निवेश के जरिए अपना बैंक बैलेंस बढ़ाया है और करोड़ों रुपये जुटाए हैं।

केटी ने 29 साल की उम्र में सेविंग और इन्वेस्टमेंट के कुछ टिप्स अपनाकर करीब 7 करोड़ रुपए का फंड इकट्ठा किया है। केटी ने कहा कि धन जुटाने की पहली युक्तियों में से एक अनावश्यक खर्चों को नियंत्रित करना है। चूंकि बचत के बारे में सोचने से गैर-जरूरी खर्च बंद हो गए हैं। उन्होंने कहा कि पहले वह जिम, सैलून और पलकों पर 50 हजार रुपये तक व्यापारी इससे पैसा कैसे कमाता है? खर्च कर देती थीं। लेकिन अब इस तरह के फालतू खर्च बंद कर दिए और निवेश करना शुरू कर दिया।

केटी ने कहा कि आपको हमेशा ज्यादा पैसा कमाने के बारे में सोचना चाहिए। पहले मैं एक ग्राफिक्स डिजाइन कंपनी में व्यापारी इससे पैसा कैसे कमाता है? काम कर रहा था। जहां वेतन कम था। मैं वहां नौकरी छोड़कर एक आटा कंपनी में चला गया और मुझे ज्यादा पैसे मिलने लगे। आपको भी हमेशा उसी काम में काम करने की इच्छा रखनी चाहिए, जहां आपको ज्यादा पैसा मिले।

केटी ने आगे बताया कि तीसरी टिप जो आप अपनाते हैं वह है पैसे को काम में लगाना यानी निवेश करना। यदि आप अपना बैंक बैलेंस बढ़ाना चाहते हैं, तो अकेले बचत करने से कुछ नहीं होने वाला है। आपको इस पैसे को भी सही जगह निवेश करना होगा। इसके लिए मैंने अपना पैसा रिटायरमेंट फंड, इंडेक्स फंड, व्यापारी इससे पैसा कैसे कमाता है? हेल्थ सेविंग अकाउंट में लगाया और फिर मुझे फायदा हुआ।

उन्होंने आगे कहा कि पैसा कमाई से नहीं बल्कि बचत से बढ़ता है। केटी ने इस फॉर्मूले को अपनाया और पैसे बचाने के लिए अपने माता-पिता के साथ रहने लगी। केटी ने कहा कि इससे उनके किराए के पैसे बच गए और उन्होंने पैसे का निवेश किया। आप अपने किराए के पैसे भी बचा सकते हैं और इसे ठीक से निवेश कर सकते हैं।

बिलासपुर के स्ट्रीट वेंडरों का छलका दर्द, प्रशासन से लगाई गुहार

बिलासपुर शहर की सड़कों के फुटपाथ पर अतिक्रमणकारियों का कब्जा होता जा रहा है. लोगों के चलने के लिये बनाए गए फुटपाथ में स्ट्रीट वेंडर अपनी दुकान सजाए बैठे हैं. पार्किंग के लिए बने सड़क किनारे के स्थल पर वाहनों को खड़ा भी नहीं करने दिया जा रहा. नगर निगम करवाई के नाम पर खाना पूर्ति करती है, लेकिन निगम कर्मियों के जाते ही फिर फुटपाथ पर कब्जा हो जाता है. इस मामले में स्ट्रीट वेंडरों की मानें, तो वो निगम से अपने लिए व्यापारिक स्थल की मांग करते रहे हैं.

बिलासपुर: मेट्रो सिटी की तर्ज पर बिलासपुर शहर को तैयार और विकसित करने के लिए सड़कों के किनारे फुटपाथ बनाया गया था. ताकि व्यापारी इससे पैसा कैसे कमाता है? सड़क पर चलने वाले लोग सुरक्षित फुटपाथ पर चलें और इससे यातायात व्यवस्था सुचारू रूप से जारी रहे. लेकिन करोड़ों रुपए खर्च करने के बाद भी इसका लाभ आम जनता को नहीं मिल रहा है. शहर के मुख्य मार्गो में ज्यादातर फुटपाथ पर कब्जाधारियों ने कब्जा कर रखा है. इसमें ये लोग अपने ठेले खोमचे रखकर अपना व्यापार शुरू कर दिया है. नगर निगम महीनों में एकाध बार कार्रवाई करती है, लेकिन दोबारा कब्जाधारी फिर कब्जा कर लेते हैं. सड़कों के फुटपाथ पर कब्जा करने वालों की अपनी ही एक अलग तरह की परेशानी है. उनका कहना है व्यापारी इससे पैसा कैसे कमाता है? कि स्ट्रीट वेंडर सभी जगह से हट जाएंगे, तो वो व्यापार कहां करेंगे.

सड़कों पर ठेला चलाने से होता है टैफिक जाम: बिलासपुर के विवेकानंद उद्यान के सामने फुटपाथ पर व्यापार करने वाले अखिल ईरानी ने बताया कि "सड़कों पर ठेला लेकर निकलते हैं, तो उनके ठेला की वजह से यातायात जाम होता है. यातायात जाम होने की वजह से पब्लिक बुरा भला तो कहती है ही, कुछ लोग के शिकायत करने पर नगर निगम और यातायात विभाग उन पर कार्रवाई भी करता है. इस वजह से वो कहीं भी सड़क किनारे ठेला लगाकर व्यापार करते हैं, लेकिन यहां भी उन्हें व्यापार नहीं करने दिया जाता. नगर निगम के अतिक्रमण दस्ता उन्हें आए दिन यहां से हटाने, उनके ठेला की जप्ती बना लेती है. उनसे मोटी रकम ली जाती है या फिर रसीद काट कर छोड़ व्यापारी इससे पैसा कैसे कमाता है? दिया जाता है. जितना कमाई नहीं होता है, उससे ज्यादा उन्हें चालान के रूप में पैसा देना पड़ता है.दूसरे जगह भेजेंगे तो कौन खरीदने आएगा:

प्रताप चौक के पास जनरल सामान की दुकान लगाने वाले दिलशेर अली ने बताया कि "उन्हें बार-बार सड़क किनारे दुकान लगाने से रोका जाता है, हटाया जाता है. उन्हें ऐसे जगह पर भेजा व्यापारी इससे पैसा कैसे कमाता है? जाता है जहां दुकान लगाने से ग्राहक आते ही नहीं. दिलशेर अली ने बताया कि सड़क किनारे दुकान लगी होने से राहगीर सामान देखते हैं और खरीदने रुक जाते हैं, इससे उनका धंधा हो जाता है. लेकिन ऐसे जगह में भेजा जाता है, जहां पर आम लोगों का आना जाना नहीं होता, तो वे उनकी दुकान में लोग कैसे आएंगे. ग्राहक नहीं होगा तो क्या धंधा करेंगे और क्या खाएंगे." उन्होंने स्थानीय प्रशासन से मांग की है, उन्हें इसी जगह छोटी सी जगह अलॉट कर दें.

शहर बढ़ तो रहा है, लेकिन हमारे लिए कोई जगह नहीं: सदर बाजार में चप्पल की दुकान लगाने वाले दीप शंकर गुप्ता ने बताया कि "शहर रोज थोड़ा थोड़ा कर बढ़ रहा है. पब्लिक की भीड़ सड़कों पर ज्यादा दिखने लगी है. अब जगह तो नहीं है, लेकिन आखिर वह कहां जाएं. उनके लिए तो शहर कितना भी बढ़ जाए, लेकिन धंधा करने के लिए जगह है ही नहीं. ऐसे में वह अपनी रोजी-रोटी कैसे चलाएं. छोटे-छोटे धंधा करने वालों के पास इतना पैसा भी नहीं है कि वह दुकान लेकर अपना धंधा कर सके. रोजाना उन्हें 3 से से 5 सौ रुपए दुकान से कमाई होती है. ऐसे में व्यापारी इससे पैसा कैसे कमाता है? घर चलाएं या दुकान का किराया दे , क्योंकि छोटा धंधा होने की वजह से प्रॉफिट कम और ग्रहकी भी कम रहता है. सड़कों पर बैठना उनकी मजबूरी है. स्थानीय प्रशासन उन्हें अपनी जनता मानती है तो उनके लिए भी सुव्यवस्थित व्यापार करने स्थान उपलब्ध करा दें, ताकि वह आराम से अपना व्यापार संचालित कर सके.

उम्र इतनी की गलियों में घूमना मुमकिन नहीं: बिलासपुर प्रेस क्लब के सामने फल का व्यापार करने वाली महिला चंद्रकांता बाई ने कहा कि "उम्र इतनी ज्यादा है कि अब गलियों में घूमना मुमकिन नहीं है. लेकिन मजबूरी यह है कि घर व्यापारी इससे पैसा कैसे कमाता है? में कोई खिलाने वाला नहीं है, इसलिए उन्हें कमाने बाहर निकलना पड़ता है. बढ़ती उम्र और शारीरिक तकलीफों की वजह से वह सड़क किनारे बैठ कर फल बिक्री करती है." उन्होंने कहा कि "यदि वहां से भी हट जाएंगी, तो कौन उन्हें खिलाएगा." वह भी चाहती है कि सड़क किनारे की नाली पर स्लैब लगाकर उन्हें छोटी सी जगह दे दी जाए, ताकि वह वहां बैठ कर आराम से अपना व्यापार कर सके और अपने बूढ़े पति का पेट भर सके. उन्होंने कहा कि "नगर निगम, स्थानीय प्रशासन उन्हें कुछ मदद कर दे, तो वह अपना व्यापार आसानी से चला सकती हैं और अपना पेट भर सकती हैं.

लाखों लोग घर बैठे इन ऐप्स से कमा रहे हैं पैसे, आपको भी Free में होगा ये मुनाफा

mobile app

नई दिल्ली: इन दिनों स्मार्टफोन में तरह-तरह के ऐप इस्तेमाल किए जाते हैं, लेकिन कभी सुना है कि इन ऐप्स को डाउनलोड करके घर बैठे हर दिन पैसे कमा सकते हैं। सुनने में जरा अजीब लग रहा होगा, लेकिन सच है कि इन दिनों कई ऐसे ऐप्स पेश किए गए हैं, जिसकी मदद से आप हर महीनें हजारों की कमाई कर सकते हैं। चलिए आज इन्हीं ऐप्स के बारे में आपको बताएंगे जिसे आप आसानी से गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं और किसी भी वक्त पैसा कमा सकते हैं।

रेटिंग: 4.56
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 617